Delhi Monuments – Ambling Through Deer Park & Hauz Khas – 1


It is a daunting task to write about the monuments of Delhi, their historical and architectural importance, about the city itself especially if your knowledge is limited. I have some books marked for reading this year but I love dilli and often wander into its lanes, bylanes, parks and ruins to get narrow the distance between what was and what is.

Hauz Khas ruins have always been a favorite destination but I never really got around to look at them from a blog post point of view. Hardly clicked photographs or wrote about them. The old monuments were more of a refuge when I wanted to escape from madding crowd. Deer park too was a runaway place where I could spend hours with myself without any intrusion.

Since Adi shifted to HK and my visits became more regular to the area I decided to list and visit all the  monument in HK and surrounding Green Park etc. The walks started with Chor Minar. You can read about it HERE.

The places on my list are:

Hauz Khas complex with The tomb of Ferozshah and other structures, Baag – i – Alam Gumbad and the walled mosque (Humayunpur), Kali GumtiBarah Khamba, Biran Ka Gumbad, Dadi Poti ka Maqbara, Choti Gumti, Sankari Gumti, Idgah of Kharehra, Nili masjid, Munda Gumbad, Hauz-i-Alai to start with.

I have covered a few  of these and will write about each in the coming days.

Deer Park Monuments – Baag – I – Alam Ka Gumbad and The Walled Mosque

Deer park was once known as Bagh -e- Alam ( ‘Garden of World’ ) and lay between Sultan Allauddin Khilji’s Siri fort and Hauz – i – Alai now popularly known as Hauz Khas Lake which was the largest man made water body of that time. Even the garden was the largest one built outside Khilji’s city known as commonly referred to as dar-ul-Khilafat later known as the city of Siri. Now the garden is limited to what we know as deer park and the lake is reduced to 1/5th of its original size.

Tucked in the thick vegetation of deer park are a few very important monuments and we started our exploration with he impressive BaghI i – Alam ka Gumbad and the Walled Mosque.

Bagh- e- Alam ka Gumbad is the largest of the three monuments in the deer park. It is an example of typical Lodi era architecture. The date of  its construction (1501)  is mentioned in a Persian inscription on a panel on the western wall. Delhi Gazetteer says the tomb is of a saint Shihab- ud -din Taj Khan. The panel also names the builder of the tomb as Abu Syed.

The monument is usually locked but I have heard it has a beautiful painted ceiling and tear drop patterns.

Surrounded by unruly vegetation and massive trees is this imposing structure with walled quibla or mosque on one side.  The facade of the monument gives a false impression of it being three- storey. Three sides of the monument have trabeated entrances barred with locked grill doors and the forth west one that faces Mecca has a mehrab recess characteristic of all the Lodi era structures. It is decorated with Quranic inscriptions.

Similarly like all Lodi era structures this too is built with locally quarried red and grey stone blocks intricately placed together to create a stunning patchwork. There are arched windows over the entrances. The entrances and the windows are set within a larger arched niche which is further placed in a rectangular frame projecting outwards through the wall face. The Eastern wall has stairs to the roof. I tried to peer through the grills to get a glimpse of the roof but the interior was shrouded in darkness and nothing was visible so I just walked around to see the gumbad from other angles. It is then I spotted a parakeet happily settled in one of the arched niches.

The dome springs from a sixteen-sided drum. The roof and the drum (base) of the hemispherical dome are decorated with a line of battlement-like ornamentation called kanguras.

The walled mosque 

The Lodi era wall mosque next to it has five-mehrab niches pointing towards Mecca. It is flanked by beautiful octagonal domed towers on either side with arched entrances build within them.

The central niche is flanked towards its back by turrets. The central of these niches is the largest both in terms of height and width. The smaller niches were build  probably to keep little lamps at night. The Quibla’s large courtyard has two neat rows of unknown graves and the place resembles more of a cemetery than a mosque. One can see beautiful leaf motifs on the entire length of the wall.

I watched the play of light and shadows on the leaf littered floor of the courtyard. Even though the plaster has peeled off at many places giving a glimpse of the rubble beneath this structure is still in a better condition than other monuments in the vicinity. The whole area is thickly shrouded by foliage from all sides overshadowing most of structure.

A little ahead is a newly constructed modern enclosure that houses hundreds of hamsters and rabbits.  We walked passed that to an open area where a cricket match was in full swing. I could see the Kali Gumti as we walked on a pathway shaded by lush Ashoka trees.

For some reason we did not go to the gumti and Tohfewala Gumbad hidden in thick foliage. I will be writing about these two separately. From there we took the trail to the deer enclosure and then to Munda Gumbad.

Munda Gumbad 

Munda Gumbad or the bald dome is a ruined pleasure pavilion on top of a grassy hillock. It was once in the center of the lake and was connected by a causeway to the city. Now it  lies at the edge of the lake. The headless or domeless structure can be accessed from all four sides by a of stairs. Made of rubble masonry the structure is believed to have two storeys. Now just a ruin it still has a aura around it and once can stand there and look at the green waters of the lake and across it he back of Tughlaq’a tomb and walls of the madarsa.

Hauz – i – Alai or Hauz Khas Lake 

By the time we were through with the Gumbad the sun had completed its journey. The green waters of the serene lake shimmered in the golden sunlight as the sun bid farewell. We walked along the lake admiring the marooned dried trees, sunken boats, fountains and the gorgeous reflections of the sunset.

At some point we sat down to talk about the  hauz i alai in its hay days when Khilji constructed it in 1295. This largest man made reservoir acted as water catchment for southern part of the city. It is believed that originally the reservoir spread over 123.6 acres and was 13.1 ft deep. Now it is just a quarter of its original size.

Once the Khilji empire declined the reservoir got neglected and mostly silted up. It was taken over by encroachments till Firoz Shah Tughlaq came to reign and took charge to de-silt, clean and clear the clogged inlets and repair it to be used again. He named it Hauz Khas and built a madarsa ( Islamic seminary) and some other structures including his tomb at its edge.

The Northern limb of the Madarsa – e – firoz Shahi (1352), a medieval center of learning, starting from the Tomb of Tughlaq on the left as seen from the water reservoir Hai- i – alai or Hauz Khas lake.

The entire complex of structures built by Tughlaq in the 14th century make this area along the lake stunningly beautiful.

Taghlaq”s Tomb

Tughlaq was by far the most prolific and far sighted builder in medieval North India and his love for architecture can be seen here in abundance. He carried out a lot of public work projects especially in the area of irrigation. We will discuss those in the upcoming posts.

The lake or tank, its water channels are still a very impressive sight.

We left the park from the Hauz Khas village end and headed back towards Sakri Gumti. I will do a post on those structures later. The complex is one of my favorites and there was a time I would spend hours wandering in the midst of this ruined glory.

 

 

Stay tuned for more on Hauz Khas complex and some other monuments in the vicinity. Stay warm and keep the spirits high. I will update this with better photographs of the monuments as and when.

Advertisements

एक शहर ये भी – कविता 7 – रात आईना है …


 

रात आईना है इस शहर की बेख्वाब आँखों का
शाम ढले जब धुप का आखरी उजाला
पेड़ों की टहनियों में सिमट जाता हैं तो ये शहर
किसी पेंटिंग की तरह रहस्मयी हो जाता है
बची खुची रौशनी लैम्पोस्ट के नीचे
सिमट जाती है और समय अँधेरे कोनों
या भूले बिसरे हाशियों में छिप जाता है
सूखे ठूँठ सी खड़ी इमारतें अपननी थकी आखें
बंद किये अँधेरा ओढ़ अचेत सी सो जाती हैं
और फिर उभरने लगते हैं अक्स उस दिल्ली के
जो दिन में अपनी तन्हाई समेटे ताकती रहती है
टुकड़ों में बंटे एक अजनबी से आसमान को
शहर की इन बिखरी सड़कोंऔर सुनसान
चौराहों पे मैं भी इन्हीं अक्सों में ढूढ़ता हूँ अपना
खोया हुआ वो अक्स जो अपना सा तो है पर
है फिर भी बेगाना, ढिबरियों सी टिमटिमाती
रौशनी में आता है नज़र आता है स्लेटी खंडहरों के
खूँट पे टंगा तनहा सा इक शहर उतार फेंका था
कभी जिसे और आती है नज़र एक सांवली सी नदी
राह भूली बाँवरी सी, पेड़ तोड़ देते हैं क़तारें
स्याह सड़कों के किनारे, चहचहाते डोलते हैं
पंख सी बाहें पसारे, सप्तपर्णी सी महक
उठती है हवा, रात में ही सांस लेता है शहर
थकन की चादर बिछा कर, फ़िक्र ज़माने की छोड़
है कोई सो रहा वो देखो चाँदनी को ओढ़
कुछ ख्वाब औंधे हैं पड़े उस पुराने बरगद परे
गीत कोई गा रहा है याद के पनघट ख़ड़े
सड़क किनारे बैठ पी रहा है कोई ख्वाबों की चिलम,
उठ रहा है धुआं सुलगते आलाव से कहीं
लिए सोंधी सी महक एक गुज़ारे वक़्त की
दिन की दमकती जिल्द में क़ैद सफहों से
झांकते हैं सूखे हुए लम्हे, कुछ भूले हुए
रुकए और मिटटी के सकोरों सी बिखरी
हुयी कुछ यादें, रात आईना है उन्हीं तवारीख़
के टुकड़ों का, तुम भी कभी खाँचो में बंटे उजालों से निकल
थाम लेना स्याह सा कोई इक छोर और फिर मिलना
उस दिल्ली से जो कभी हमारी थी

 

एक शहर ये भी – कविता 6 – दिल्ली ६


आज युहीं पुरानी दिल्ली की उन जानी अनजानी
तंग गलियों में लौट जाने का मन हुआ
गलियां ऐसी की लखनऊ की भुलभुलैया
फीकी पड़ जाये, चांदनी चौक मेट्रो स्टेशन
से उतर हम भी हो लिए लोगों के उमड़ते
हुजूम के साथ, नयी दिल्ली का नक्शा
चाहे बदल गया हो यहाँ कुछ नहीं बदला
नूर से नहायी सहरी की सुबहें, इफ्तार
की पाकीज़ा शामें और जामा मस्जिद की
सीढ़ियों पे रेकॉर्डतोड़ गर्मी से बेपरवाह,
बेफ़िक़्र खेलते नन्हे रोज़दार जिन्हें
इंतज़ार है तो बसआने वाली ईद का
आसमां पे वही ढलते सूरज की लाली,
शाम ए इफ्तार की रंगत में सराबोर
बाज़ार, ख़ुशी से दमकते चेहरे,
मस्जिद से आती आज़ान की गूँज
दरगाह हज़रत सरमद शहीद
की जाली से बंधे लाल धागे में
लिपटी एक बाली और इबादत
की रौशनी से गुलज़ार मेरा मन
आज भी उर्दू बाज़ार से मटिआ महल
और चितली क़बर से हवेली आज़म खान
तक सिवइयों की खुशबू से महकती दुकानें
याद दिलाती हैं दोस्तों की वो अड्डेबाज़ी,
वो लौंग चुरी कबाब और कालना स्वीट्स
की पनीर जलेबी, वो लज़ीज़ निहारी कुलचे,
हाजी मोहम्मद अनवर की मिर्च मसाला बिरयानी,
कूल पॉइंट का शाही टुकड़ाऔर नवाब कुरैशी
का प्यार मोहब्बत मज़ा, वो तुम्हारा नज़रें बचा
फतेहपुरी मस्जिद से निकलना और तुम्हारे
इत्र की खुशबु से मेरी सांसों का महक जाना
मेरा तुम्हें चुपके से बालियाँ थमाना ओर
इसी बहाने तुम्हारे नाज़ुक हाथों का
छू जाना, गुड़ के शरबत सी मीठी
तुम्हारी हंसी, चूड़ियों की वो खनखनाहट
और चाट के तीखे मीठे सकोरों के बीच
कभी यूँही शरमा कर तुम्हारा मेरी बांहों में सिमट जाना
और ऐन मौके पर अशरफ चचा का बिज़ी हो जाना
जुगनुओं सी चमकती रात में जब हम आखिर जुदा होते
तो चचा अक्सर पैसे लेना भूल जाते, तुम नक़ाब ओढ़ना
और मैं घर का रस्ता भूल जाता
अब न तुम हो न फुर्सत के वो दिन रात है
और न ही वो दोस्त और न ही चचा जान
पर आज भी मैं शाहजानाबाद की इन रंगीनियों में
खिंचा चला आता हूँऔर यादों की मश्क़
कंधे पे उठाये यूँही हर नुक्कड़,
हर दर ओ दरवाज़े, हर झरोखे में

बस तुम्हें ढूढ़ता हूँ

इस कविता के बारे में कुछ कहना चाहूंगी | जयश्री शुक्ला से हमारी जानपहचान फेसबुक से हुई और ठोस ही समय में हम अच्छे दोस्त बन गए | जयश्री लाजवाब तस्वीरें खींचती हैं जो दिल्ली के हर रूप हर देखे अनदेखे पहलु से हमें रूबरू कराती हैं | आप उन्हें इंस्टाग्राम पर फॉलो कर सकते हैं. रमज़ान के इस पाक महीने में उनकी तस्वीरें देख मन उन्ही शाहजहानाबाद के गली कूचों में खो गया और कुछ यादें ताज़ा हो गयीं | कुछ फेर बदल कर इस कविता में हमने उन्हें ही संजोया है | इस इंस्पिरेशन के लिए जयश्री का तहे दिल से शुक्रिया |
अमिताभ मित्रा भी ऐसे ही हमारे एक कवी दोस्त हैं. पेशे से डॉक्टर हैं पर क्या खूब पेंटिंग करते हैं| कभी रंगों से तो कभी शब्दों से | कविता की दो लाइनें उनके एक अंग्रेजी कविता से प्रेरित हैं. तो उनका भी बहुत शुक्रिया |

एक शहर ये भी – कविता 5 – महरौली


 

 

बचपन में दिल्ली रिज पे रत्ती बटोरा करते थे
कॉलेज में दोस्तों का हाथ थामे किसी टूटी मुंडेर पे बैठे
क़ुतुब मीनार को ताकते या आवारगी के आलम में
युहीं फिरा करते, कीकर, बबूल,बिलाङ्गड़ा, पिलखन
के दरख्तों और जंगली झाड़ियों के बीच
हज़ारों बरसों की यादों को सहेजे मेहरौली की
संकरी गलियाँ, दरगाह, बावड़ी, मस्जिदें और मक़बरे
हमें शहर के शोरशराबे से दूर सुकूं का अहसास दिलाते,
आज फिर सोहनलाल की खस्ता कचौरी खाने निकले तो मन
रबड़ी फालूदा, समोसे चाट पकोड़ी कबाब, नहारी,
कोरमा और खमीरी रोटी की खुशबुओं में खो गया,
अलाई मीनार के पास निगाहें चुड़ैल पापड़ी पर
सदियों से बसे जिन्नो को फिर ढूढ़ने लगी पर
नाग फूल पर जाकर अटक गयीं और फिर
बड़े पीलू की बूढ़ी हड्डियों से सरसराती हुई
बेर के पेड़ में उलझ गयीं, बस यूँही पेड़ों की
परछाईयों में लुकते छिपते तुम कागज़ पर
नामों की लिस्ट बनाने लगे- ढ़ाक, रोंझ,
करील, देसी पापड़ी और न जाने क्या क्या,
तुम्हें पेड़ों से लगाव था और मैं मेहराब, गुम्बद,
दर-ओ -दीवार, झरोखों और जमाली कमाली
के खंडहरों में खो जाना चाहती थी,
जहाज महल, ज़फर महल, औलिया मस्जिद
की रूह को छूना चाहती थी, सैरगाहों, इबादतखानो,
हवेलियों में बीते कल को ढूढ़ना चाहती थी,
मोहम्मद शाह रंगीले की रंगों में रंगना चाहती थी,
मैं इस शहर की नब्ज़ टटोलना चाहती थी,
मेहरौली की वक़्त से भी लम्बी दास्ताँ इन धुल भरे
पत्थरों में ज़िंदा हैं और उसी की नब्ज़ पर हाथ रखे
हम चल पड़े,आँखों में रेत सी चुभती भद्दी नयी इमारतों,
कूड़े के ढेर और झाड़ झंकाड़ के बीच आखरी सांसें लेती,
अतीत की उन अनछुई दस्तानो को परत दर परत खोलने
युहीं घूमते फिरते हम सूरज गुरुब होने से पहले
पहुंचे ख्वाजा बख्तियार काकी की दरगाह पर,
सैर-ए-गुल फरोशां की यादों से मन महक उट्ठा ,
लोभान और गुलाब की खुशबू ,पेड़ों पे पंछियों का
कोलाहल, जाली में बंधे मन्नत के धागे, रौशनी की दुआ
के सजदे में झुके सर और क़व्वालों की गूँज से मुबारक
समां में बंधे हम मोहब्बत और अमन की शमा दिल में लिए
शाम के गहराते सायों में घुल गए और यूँ ख़तम हुआ
एक और दिन दिल्ली की गलियों में

एक शहर ये भी – कविता 4 – भूली बिसरी यादें


आज कुछ सायों से मुलाक़ात हुई
पुरानी यादें थी साथ हो लीं
दरयागंज में गोलचा सिनेमा के पास
संडे बुक मार्किट में किताबों के पन्ने पलटते हुए
पुराने दिन याद आ गए, भीड़भाड़, किताबों, सिक्को,
कपड़ों की छोटी छोटी दुकानों से गुज़रते हुए
हम दिल्ली गेट पहुंचे, यहीं सड़क पे जाती एक बस से
याद आयी डी टी सी की वो डबल डेकर बस
जिसमे हम कभी कभार छुट्टियों में
अंग्रेजी फिल्म देखने जाते थे
तब सिंगल स्क्रीन सिनेमा हॉल का ज़माना था
और फिल्म देखना एक लग्जरी
दिल्ली में तब हरयाली ज़्यादा और
भीड़ कम दिखती थी और अक्सर
इन बसों की छतें डालियों की मार से
डेंटेड रहती थीं
१४-१५ साल की उम्र में इन
डबल डेकर बसों से दिल्ली शहर
कुछ अलग ही दिखता था
ये समय था फटफटिया, लम्ब्रेटा या वेस्पा स्कूटर का
सड़कों पे ज़्यादातर फिएट और एम्बेसडर
ही दिखती थीं या फिर कभी कभी किसी
रईस की फॉरेन गाड़ी सर्राटे ने निकल जाती थी
राजपथ पर साइकिलों का मजमा एक आम बात थी
ये वो समां था जहाँ सेंट्रल दिल्ली के पेवमेंट
जामुन से रंगे रहते थे और हम ठंडी मीठी गंडेरी
चबाते नीम की छांव में गर्मी की शामें काटा करते थे
ट्रैफिक के शोर से परे वो मीठी आवाज़ें कानों में गूंजने लगीं
“लैला की उंगलियां,मजनू की पसलियां, ताज़ा ताज़ा ककड़ियाँ”,
” फालसे काले काले, मुझसे भी ज़्यादा काले”, गंडेरी गुलाबवाली
मीठी मीठी मतवाली”, एक दबी सी मुस्कराहट होटों को छू गयी
और हम चल दिए उन्हीं गुलाबों की भीनी सी खुशबू लिए
शाहजहानाबाद की सैर को